-->

CrPC 467 in Hindi - Definitions

Chapter XXXVI[1] - CrPC Section 467

CrPC Section 467 in Hindi-
परिभाषा:
इस अध्याय के प्रयोजनों के लिए, जब तक संदर्भ में अन्यथा अपेक्षित न हो, परिसीमा-काल से किसी अपराध का संज्ञान करने के लिए धारा 468 में विनिर्दिष्ट अवधि अभिप्रेत है।



CrPC Section 467 in English-
Definitions:
For the purposes of this Chapter, unless the context otherwise, requires, period of limitation means the period specified in section 468 for taking cognizance of an offence.


1. Provisions of this Chapter shall not apply to certain economic offences, see the Economic Offences (Inapplicability of Limitation) Act, 1974 (12 of 1974), s. 2 and Sch.
Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख

अधिक पढ़ें गए

IPC 354C in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ग - Voyeurism

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ग दृश्यरतिकता [1] -- कोई पुरुष, जो प्राइवेट कार्य में संलग्न स्त्री को उन परिस्थितियों में देखेगा या का चित्...

पूरा पढ़ें

IPC 354B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ख - Assault or use of criminal force to woman with intent to disrobe

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ख विवस्त्र करने के आशय से स्त्री पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग [1] -- कोई पुरुष, जो किसी स्त्री को विवस्...

पूरा पढ़ें

IPC 354D in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 घ - Stalking

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354घ पीछा करना [1] -- 1. कोई पुरुष, जो (i) किसी स्त्री का पीछा करेगा या ऐसी स्त्री द्वारा अनिच्छा के स्पष्ट उ...

पूरा पढ़ें

IPC 354A in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 क - Sexual harassment and punishment for sexual harassment

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354क लैंगिक उत्पीड़न और लैंगिक उत्पीड़न के लिए दण्ड [1] -- 1. निम्न कार्यों --- (i) अवांछनीय एवं सुव्यक्त लैंगि...

पूरा पढ़ें

IPC 376B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376ख - Sexual intercourse by husband upon his wife during separation

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376ख पृथक रहने के दौरान पति द्वारा अपनी पत्नी के साथ मैथुन [1] -- जो कोई अपनी पत्नी के साथ, जो चाहे पृथककरण की ...

पूरा पढ़ें