CrPC 473 in Hindi - Extension of period of limitation in certain cases

Chapter XXXVI[1] - CrPC Section 473

CrPC Section 473 in Hindi-
कुछ दशाओं में परिसीमा-काल का विस्तारण:
इस अध्याय के पूर्ववर्ती उपबंधों में अंतर्विष्ट किसी बात के होते हुए भी, कोई भी न्यायालय किसी अपराध का संज्ञान परिसीमा-काल के अवसान के पश्चात् कर सकता है यदि मामले के तथ्यों या परिस्थितियों से उसका समाधान हो जाता है कि विलंब का उचित रूप से स्पष्टीकरण कर दिया गया है या न्याय के हित में ऐसा करना आवश्यक है।



CrPC Section 473 in English-
Extension of period of limitation in certain cases:
Notwithstanding anything contained in the foregoing provisions of this Chapter, any Court may take cognizance of an offence after the expiry of the period of limitation, if it is satisfied on the facts and in the circumstances of the case that the delay has been properly explained or that it is necessary so to do in the interests of justice.


1. Provisions of this Chapter shall not apply to certain economic offences, see the Economic Offences (Inapplicability of Limitation) Act, 1974 (12 of 1974), s. 2 and Sch.
Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख