-->

CrPC 452 in Hindi - Section 452 CrPC - Order for disposal of property at conclusion of trial

Chapter XXXIV - CrPC Section 452

CrPC Section 452 in Hindi-
विचारण की समाप्ति पर सम्पत्ति के व्ययन के लिए आदेश:
(1) जब किसी दंड न्यायालय में जांच या विचारण समाप्त हो जाता है तब न्यायालय उस सम्पत्ति या दस्तावेज को, जो उसके समक्ष पेश की गई है, या उसकी अभिरक्षा में है अथवा जिसके बारे में कोई अपराध किया गया प्रतीत होता है या जो किसी अपराध के करने में प्रयुक्त की गई है, नष्ट करके, अधिहृत करके या किसी ऐसे व्यक्ति को परिदान करके, जो उस पर कब्जा करने का हकदार होने का दावा करता है, या किसी अन्य प्रकार से उसका व्ययन करने के लिए आदेश दे सकेगा जैसा वह ठीक समझे।

(2) किसी सम्पत्ति के कब्जे का हकदार होने का दावा करने वाले किसी व्यक्ति को उस संपत्ति के परिदान के लिए उपधारा (1) के अधीन आदेश किसी शर्त के बिना या इस शर्त पर दिया जा सकता है कि वह न्यायालय को समाधानप्रद रूप में यह वचनबंध करते हुए प्रतिभुओं सहित या रहित बंधपत्र निष्पादित करे कि यदि उपधारा (1) के अधीन किया गया आदेश अपील या पुनरीक्षण में उपांतरित या अपास्त कर दिया गया तो वह उस सम्पत्ति को ऐसे न्यायालय को वापस कर देगा।

(3) उपधारा (1) के अधीन स्वयं आदेश देने के बदले सेशन न्यायालय सम्पत्ति को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट को परिदत्त किए जाने का निदेश दे सकता है, जो तब उस सम्पत्ति के विषय में धारा 457,458 और 459 में उपबंधित रीति से कार्रवाई करेगा।

(4) उस दशा के सिवाय, जब सम्पत्ति पशुधन है या शीघ्रतया और प्रकृत्या क्षयशील है या जब उपधारा (2) के अनुसरण में बंधपत्र निष्पादित किया गया है, उपधारा (1) के अधीन दिया गया आदेश दो मास तक अथवा जहां अपील उपस्थित की गई है वहां जब तक उस अपील का निपटारा न हो जाए, कार्यान्वित न किया जाएगा।

(5) उस सम्पत्ति की दशा में, जिसके बारे में अपराध किया गया प्रतीत होता है, इस धारा में सम्पत्ति पद के अन्तर्गत न केवल ऐसी सम्पत्ति है जो मूलतः किसी पक्षकार के कब्जे या नियंत्रण में रह चुकी है वरन् ऐसी कोई सम्पत्ति जिसमें या जिसके लिए उस सम्पत्ति का संपरिवर्तन या विनिमय किया गया है और ऐसे संपरिवर्तन या विनिमय से, चाहे अव्यवहित रूप से चाहे अन्यथा, अर्जित कोई चीज भी है।



CrPC Section 452 in English-
Order for disposal of property at conclusion of trial:
(1) When an inquiry or trial in any Criminal Court is concluded, the Court may make such order as it thinks fit for the disposal, by destruction, confiscation or delivery to any person claiming to be entitled to possession thereof or otherwise, of any property or document produced before it or in its custody, or regarding which any offence appears to have been committed, or which has been used for the commission of any offence.

(2) An order may be made under sub-section (1) for the delivery of any property to any person claiming to be entitled to the possession thereof, without any condition or on condition that he executes a bond, with or without securities, to the satisfaction of the Court, engaging to restore such property to the Court if the order made under sub-section (1) is modified or set aside on appeal or revision.

(3) A Court of Session may, instead of itself making an order under sub-section (1), direct the property to be delivered to the Chief Judicial Magistrate, who shall thereupon deal with it in the manner provided in sections 457, 458 and 459.

(4) Except where the property is livestock or is subject to speedy and natural decay, or where a bond has been executed in pursuance of sub-section (2), an order made under sub-section (1) shall not be carried out for two months, or when an appeal is presented, until such appeal has been disposed of.

(5) In this section, the term "property" includes, in the case of property regarding which an offence appears to have been committed, not only such property as has been originally in the possession or under the control of any party, but also any property into or for which the same may have been converted or exchanged, and anything acquired by such conversion or exchange, whether immediately or otherwise.


Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख

अधिक पढ़ें गए

IPC 354C in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ग - Voyeurism

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ग दृश्यरतिकता [1] -- कोई पुरुष, जो प्राइवेट कार्य में संलग्न स्त्री को उन परिस्थितियों में देखेगा या का चित्...

पूरा पढ़ें

IPC 354B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ख - Assault or use of criminal force to woman with intent to disrobe

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ख विवस्त्र करने के आशय से स्त्री पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग [1] -- कोई पुरुष, जो किसी स्त्री को विवस्...

पूरा पढ़ें

IPC 354D in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 घ - Stalking

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354घ पीछा करना [1] -- 1. कोई पुरुष, जो (i) किसी स्त्री का पीछा करेगा या ऐसी स्त्री द्वारा अनिच्छा के स्पष्ट उ...

पूरा पढ़ें

IPC 354A in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 क - Sexual harassment and punishment for sexual harassment

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354क लैंगिक उत्पीड़न और लैंगिक उत्पीड़न के लिए दण्ड [1] -- 1. निम्न कार्यों --- (i) अवांछनीय एवं सुव्यक्त लैंगि...

पूरा पढ़ें

IPC 376B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376ख - Sexual intercourse by husband upon his wife during separation

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376ख पृथक रहने के दौरान पति द्वारा अपनी पत्नी के साथ मैथुन [1] -- जो कोई अपनी पत्नी के साथ, जो चाहे पृथककरण की ...

पूरा पढ़ें