-->

IPC 427 in Hindi - News - आईपीसी की धारा 427 - समाचार

भारतीय दंड संहिता की धारा 427 के अनुसार यदि कोई शरारत करता है और उससे अगर किसी का 50 रूपए या उससे अधिक का नुक्सान होता है तो शरारत करने वाले पर इस धारा के अंतर्गत मुकदमा दाखिल किया जा सकता है। क्योंकि यह अपराध असंज्ञेय है, इसलिए पुलिस इस मामले में बिना न्यायालय के वारंट के कार्यवाही नहीं कर सकती, जोकि CrPc Section 155 में उल्लेखित है। परन्तु यदि किसी अपराध में धारा 427 के साथ कोई और धारा, जो संज्ञेय अपराध से जुडी है तो वारंट की आवश्यकता नहीं होगी।
1860 के दशक में जब दंड संहिता को बनाया गया था, उस समय 50 रुपए का मूल्य बहुत अधिक होता था, उस समय आना-दो आना में काम चल जाया करता था परन्तु आज 50 रूपये के नुक्सान के लिए दंड मिलना भी एक सचाई है, और इसीलिए लगभग हर दुर्घटना के मामले में जिसमे कोई माल का नुक्सान होता है वहां आईपीसी की धारा 427 लगाई जाती है। इस धारा से संबंधित कुछ संक्षिप्त समाचार नीचे दिए गए है जिनको पढ़ने के बाद आप इस धारा की प्रकृति को भली प्रकार से समझ पाएंगे। ( अपराध और उस पर लगने वाली धारा को लाल रंग में दर्शाया गया है। )
धारा 427 से जुड़े समाचार:
आस्ट्रेलियाई टीम की बस पर पत्थर फेंकने को लेकर चार गिरफ्तार
10 अक्टूबर 2017, गुवाहाटी: असम पुलिस ने शाम को चार युवकों को, आस्ट्रेलिया की टी-20 टीम की बस पर पत्थर फेंकने और नुकसान पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। असम के गोरचक पुलिस थाने के प्रमुख ने यह जानकारी दी। इस मामले में इन चारों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 307 (हत्या की कोशिश), धारा 336 (जीवन को खतरे में लाने), धारा 427 (Mischief causing damage to the amount of fifty rupees) और 511 (अपराध करने का प्रयास) के तहत मामला दर्ज किया गया है।
जज के गार्डन की घास चरने पर बकरी गिरफ्तार
9 फ़रवरी, 2016: छत्तीसगढ़, के कोरिया जिले में एक बकरी कुछ दिनों से जज साहब के गार्डन में घुसकर घास, फूल और पत्तियों को चर जाया करती थी, जिससे वह नाराज थे। इस घटना को लेकर जज साहब के माली द्वारा पुलिस अधिकारियों से इसकी शिकायत करने पर पुलिस ने यह मामला आईपीसी की धारा 427 (शरारतपूर्ण 50 रुपए का या उससे अधिक का नुक्सान) और 447 (आपराधिक अतिचार के लिए दंड) के अंतर्गत दर्ज कर लिया। बकरी और बकरी के मालिक को हिरासत में ले लिया गया, बाद में बकरी को छोड़ दिया गया।
पुलिस चौकी में आग से जब्त सामान स्वाहा।
19 नवम्बर 2017, लुधियाना: रविवार की सुबह टिब्बा रोड, पुलिस चौकी में आग लगने से पाँच बोरी यार्न और 10 मोटरसाइकिलें जोकि जब्त की गई थी, भस्म हो गई । इस आग को बुझाने में फायर डिपार्टमेंट को दो घंटे लग गए। हालांकि, इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है।
इस घटना पर साजिश का संदेह करते हुए पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 427 (पचास रुपए की राशि को नुकसान पहुंचाने के लिए ) और 436 (आग या विस्फोटक पदार्थ से घर को नष्ट करने के इरादा) के तहत मामला दर्ज किया है।
ऊपर दिए गए समाचारों के अलावा सड़क दुर्घटनाओं में इस धारा का अधिकतर प्रयोग होता है। इस तरह से समझा जा सकता है, कि आईपीसी की धारा 427 का प्रयोग हर उस घटना में होता है जिसमे नुक्सान 50 या अधिक रुपए का होता है। अधिकतर इस धारा के साथ-साथ अन्य धाराए भी जोड़ी जाती है।
Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख

अधिक पढ़ें गए

IPC 354C in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ग - Voyeurism

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ग दृश्यरतिकता [1] -- कोई पुरुष, जो प्राइवेट कार्य में संलग्न स्त्री को उन परिस्थितियों में देखेगा या का चित्...

पूरा पढ़ें

IPC 354B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ख - Assault or use of criminal force to woman with intent to disrobe

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ख विवस्त्र करने के आशय से स्त्री पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग [1] -- कोई पुरुष, जो किसी स्त्री को विवस्...

पूरा पढ़ें

IPC 354A in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 क - Sexual harassment and punishment for sexual harassment

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354क लैंगिक उत्पीड़न और लैंगिक उत्पीड़न के लिए दण्ड [1] -- 1. निम्न कार्यों --- (i) अवांछनीय एवं सुव्यक्त लैंगि...

पूरा पढ़ें

IPC 354D in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 घ - Stalking

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354घ पीछा करना [1] -- 1. कोई पुरुष, जो (i) किसी स्त्री का पीछा करेगा या ऐसी स्त्री द्वारा अनिच्छा के स्पष्ट उ...

पूरा पढ़ें

IPC 376B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376ख - Sexual intercourse by husband upon his wife during separation

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376ख पृथक रहने के दौरान पति द्वारा अपनी पत्नी के साथ मैथुन [1] -- जो कोई अपनी पत्नी के साथ, जो चाहे पृथककरण की ...

पूरा पढ़ें