CHAPTER XIX - CRIMINAL BREACH OF CONTRACTS OF SERVICE - अध्याय 19 - सेवा संविदाओं का आपराधिक भंग - IPC 491.

Updated By: Help-Line 491

CLASSIFICATION OF OFFENCES CHAPTER XIX
अपराधों का वर्गीकरण अध्याय 19
Classification of offences under Section 491 of
Indian Penal Code 1860.


CHAPTER XIX - CRIMINAL BREACH OF CONTRACTS OF SERVICE.
अध्याय 19 - सेवा संविदाओं का आपराधिक भंग


Section Offence Punishment Cognizance Bail By Triable
491 IPC Being bound to attend on or supply the wants of a person who is helpless from youth, unsoundness of mind or disease, and voluntarily omitting to do so Imprisonment for 3 months, or fine of 200 rupees or both Non-Cognizable - असंज्ञेय Bailable - जमानती Any Magistrate

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख
-

अधिक पढ़ें गए

IPC 324 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 खतरनाक आयुधों या साधनों द्वारा स्वेच्छया उपहति कारित करना --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबं...

पूरा पढ़ें

IPC 325 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने के लिए दण्ड -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, जो कोई स्वे...

पूरा पढ़ें

IPC 323 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 स्वेच्छया उपहति कारित करने के लिए दण्ड --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध है, जो कोई स्वेच्छ...

पूरा पढ़ें

IPC 451 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451 कारावास से दंडनीय अपराध को करने के लिए गृह-अतिचार -- जो कोई कारावास से दंडनीय कोई अपराध करने के लिए गॄह-अतिचा...

पूरा पढ़ें

IPC 342 in HIndi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342 सदोष परिरोध के लिए दण्ड ---   जो कोई किसी व्यक्ति का सदोष परिरोध करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास...

पूरा पढ़ें