IPC 79 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 79 - Act done by a person justified, or by mistake of fact believing himself, justified, by law

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 79

विधि द्वारा न्यायानुमत या तथ्य की भूल से अपने को विधि द्वारा न्यायानुमत होने का विश्वास करने वाले व्यक्ति द्वारा किया गया कार्य-- कोई बात अपराध नहीं है, जो ऐसे व्यक्ति द्वारा की जाए, जो उसे करने के लिए विधि द्वारा न्यायानुमत हो, या तथ्य की भूल के कारण, न कि विधि की भूल के कारण सदभावपूर्वक विश्वास करता हो कि वह उसे करने के लिए विधि द्वारा न्यायानुमत है ।

दृष्टांत:
क, य को ऐसा कार्य करते देखता है, जो को हत्या प्रतीत होता है । सदभावपूर्वक काम में लाए गए अपने श्रेष्ठ निर्णय के अनुसार उस शक्ति को प्रयोग में लाते हुए, जो विधि ने हत्याकारियों को उस कार्य में पकड़ने के लिए समस्त व्यक्तियों को दे रखी है, को उचित प्राधिकारियों के समक्ष ले जाने के लिए को अभिगॄहीत करता है । ने कोई अपराध नहीं किया है, चाहे तत्पश्चात् असल बात यह निकले कि आत्म-प्रतिरक्षा में कार्य कर रहा था ।

IPC 79 - English

Act done by a person justified, or by mistake of fact believing himself, justified, by law.-- Nothing is an offence which is done by any person who is justified by law, or who by reason of a mistake of fact and not by reason of a mistake of law in good faith, believes himself to be justified by law, in doing it.

Illustration:
A sees Z commit what appears to A to be a murder. A, in the exercise, to the best of his judgment exerted in good faith, of the power which the law gives to all persons of apprehending murderers in the fact, seizes Z, in order to bring Z before the proper authorities. A has committed no offence, though it may turn out that Z was acting in self-defence.

Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख