IPC 118 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 118

Updated By: Help-Line 118

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 118

मॄत्यु या आजीवन कारावास से दंडनीय अपराध करने की परिकल्पना को छिपाना-- जो कोई मॄत्यु या [आजीवन कारावास] से दंडनीय अपराध का किया जाना सुकर बनाने के आशय से या संभाव्यतः तद्द्द्वारा सुकर बनाएगा यह जानते हुए,

ऐसे अपराध के किए जाने की परिकल्पना के अस्तित्व को किसी, कार्य या अवैध लोप द्वारा स्वेच्छया छिपाएगा या ऐसी परिकल्पना के बारे में ऐसा व्यपदेशन करेगा जिसका मिथ्या होना वह जानता है,

यदि अपराध कर दिया जाए-- यदि अपराध नहीं किया जाए-- यदि ऐसा अपराध कर दिया जाए, तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, अथवा यदि अपराध न किया जाए, तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और दोनों दशाओं में से हर एक में जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।

दृष्टांत:
क, यह जानते हुए कि स्थान पर डकैती पड़ने वाली है, मजिस्ट्रेट को यह मिथ्या इत्तिला देता है कि डकैती स्थान पर, जो विपरीत दिशा में है, पड़ने वाली है और इस आशय से कि तद्द्द्वारा उस अपराध का किया जाना सुकर बनाए मजिस्ट्रेट को भुलावा देता है । डकैती परिकल्पना के अनुसरण में ख स्थान पर पड़ती है । क इस धारा के अधीन दंडनीय है ।
PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
1. मॄत्यु या आजीवन कारावास से दंडनीय अपराध करने की परिकल्पना को छिपाना - यदि अपराध कर दिया जाए|

2. यदि अपराध नहीं किया जाए|
1. सात वर्ष का कारावास और जुर्मना

2. तीन वर्ष का कारावास और जुर्मना
कोंग्निजेंस - अपराध के अनुरसार 1. गैर-जमानती

2. जमानती
विचारणीय - अपराध के अनुरसार कम्पाउंडबल अपराध की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है।

Indian Penal Code Section 118

Concealing design to commit offence punishable with death or imprisonment for life.-- Whoever intending to facilitate or knowing it to be likely that he will thereby facilitate the commission of an offence punishable with death or 1*[imprisonment for life], voluntarily conceals, by any act or illegal omission, the existence of a design to commit such offence or makes any representation which he knows to be false respecting such design, if offence be committed-if offence be not committed.

if offence be committed- if offence be not committed.-- shall, if that offence be committed, be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, or, if the offence of not committed, with imprisonment of either description, for a term which may extend to three years; and in either case shall also be liable to fine.

Illustration:

A, knowing that dacoity is about to be committed at B, falsely informs the Magistrate that a dacoity is about to be committed at C, a place in an opposite direction, and thereby misleads the Magistrate with intent to facilitate the commission of the offence. The dacoity is committed at B in pursuance of the design. A is punishable under this section.
PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
1. Concealing a design to commit an offence punishable with death or imprisonment for life, If the offence be committed.

2. If the offence be not committed.
1. 7 Years and Fine.

2.3 Years and Fine.

Cognizance - Same As Offence1. Non-Bailable

2. Bailable
Triable By - Same As OffenceOffence is NOT listed under Compoundable Offences

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख
-

अधिक पढ़ें गए

IPC 324 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 खतरनाक आयुधों या साधनों द्वारा स्वेच्छया उपहति कारित करना --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबं...

पूरा पढ़ें

IPC 325 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने के लिए दण्ड -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, जो कोई स्वे...

पूरा पढ़ें

IPC 323 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 स्वेच्छया उपहति कारित करने के लिए दण्ड --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध है, जो कोई स्वेच्छ...

पूरा पढ़ें

IPC 451 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451 कारावास से दंडनीय अपराध को करने के लिए गृह-अतिचार -- जो कोई कारावास से दंडनीय कोई अपराध करने के लिए गॄह-अतिचा...

पूरा पढ़ें

IPC 342 in HIndi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342 (Dhara 342) सदोष परिरोध के लिए दण्ड ---   जो कोई किसी व्यक्ति का सदोष परिरोध करेगा, वह दोनों में से किसी भांत...

पूरा पढ़ें