IPC 488 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 488 - Punishment for making use of any such false mark

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 488

किसी ऐसे मिथ्या चिह्न को उपयोग में लाने के लिए दण्ड-- कोई अन्तिम पूर्वगामी धारा द्वारा प्रतिषिद्ध किसी प्रकार से किसी ऐसे मिथ्या चिह्न का उपयोग करेगा, जब तक कि वह यह साबित न कर दे कि उसने वह कार्य कपट करने के आशय के बिना किया है, वह उसी प्रकार दण्डित किया जाएगा, मानो उसने उस धारा के विरुद्ध अपराध किया हो ।

PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
किसी ऐसे मिथ्या चिह्न को उपयोग में लाने के लिए दण्ड।तीन वर्ष तक का कारावास या जुर्माना या दोनों।असंज्ञेय या नॉन-काग्निज़बल जमानती
विचारणीय : किसी भी मेजिस्ट्रेट द्वारा कम्पाउंडबल अपराध की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है।

IPC 488 - English

Punishment for making use of any such false mark. -- Whoever makes use of any such false mark in any manner prohibited by the last foregoing section shall, unless he proves that he acted without intent to defraud, be punished as if he had committed an offence against that section.

PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
Punishment for making use of any such false mark.Imprisonment may extend to Three Years or Fine or Both.Non-CognizableBailable
Triable By: Any MagistrateOffence is NOT listed under Compoundable Offences
Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख