IPC 171 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 171 - Wearing garb or carrying token used by public servant with fraudulent intent

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 171

कपटपूर्ण आशय से लोक सेवक के उपयोग की पोशाक पहनना या टोकन को धारण करना-- जो कोई लोक सेवकों के किसी खास वर्ग का न होते हुए, इस आशय से कि यह विश्वास किया जाए, या इस ज्ञान से कि सम्भाव्य है कि यह विश्वास किया जाए, कि वह लोक सेवकों के उस वर्ग का है, लोक सेवकों के उस वर्ग द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली पोशाक के सदृश पोशाक पहनेगा, या टोकन के सदृश कोई टोकन धारण करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन मास तक की हो सकेगी या जुर्माने से, जो दो सौ रुपए तक का हो सकेगा, या दोनों से, दंडित किया जाएगा।

PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
कपटपूर्ण आशय से लोक सेवक के उपयोग की पोशाक पहनना या टोकन को धारण करना। तीन मास तक का कारावास या जुर्माना या दोनों।संज्ञेय या काग्निज़बलजमानती
विचारणीय : प्रथम श्रेणी के मेजिस्ट्रेट द्वारा। कम्पाउंडबल अपराध की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है।

IPC 171 - English

Wearing garb or carrying token used by public servant with fraudulent intent.-- Whoever, not belonging to a certain class of public servants, wears any garb or carries any token resembling any garb or token used by that class of public servants, with the intention that it may be believed, or with the knowledge that it is likely to be believed, that he belongs to that class of public servants, shall be punished with imprisonment of either description, for a term which may extend to three months, or with fine which may extend to two hundred rupees, or with both.

PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
Wearing garb or carrying token used by public servant with fraudulent intent.Imprisonment for Three Months or Fine or Both.
CognizableBailable
Triable By: Magistrate of the First Class.Offence is NOT listed under Compoundable Offences
Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख