IPC 506 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 506 - Punishment for criminal intimidation

Updated By: Help-Line

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 506

आपराधिक अभित्रास के लिए दण्ड-- जो कोई आपराधिक अभित्रास का अपराध करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा ।
यदि धमकी मृत्यु या घोर उपहति इत्यादि कारित करने की हो -- तथा यदि धमकी मृत्यु या घोर उपहति कारित करने की, या अग्नि द्वारा किसी सम्पति का नाश कारित करने की या मृत्यु दण्ड से या [ आजीवन कारावास ] से, या सात वर्ष की अवधि तक के कारावास से दण्डनीय अपराध कारित करने की, या किसी स्त्री पर असतित्व का लांछन लगाने की हो ; तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा ।

PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
1. आपराधिक अभित्रास के लिए दण्ड

2. धमकी मृत्यु या घोर उपहति इत्यादि कारित करने पर
1. दो वर्ष तक का कारावास या जुर्माना या दोनों

2. सात वर्ष तक का कारावास या जुर्माना या दोनों
असंज्ञेय या नॉन-काग्निज़बलजमानती
विचारणीय : 1. किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा

2. प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट द्वारा
यह अपराध अभित्रासित व्यक्ति द्वारा कंपाउंडबल है

Indian Penal Code Section 506

Punishment for criminal intimidation.-- Whoever commits the offence of criminal intimidation shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to two years, or with fine, or with both; If threat be to cause death or grievous hurt, etc. If threat be to cause death or grievous hurt, etc.--and if the threat be to cause death or grievous hurt, or to cause the destruction of any property by fire, or to cause an offence punishable with death or [imprisonment for life], of with imprisonment for a term which may extend to seven years, or to impute unchastity to a woman, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, or with fine, or with both

PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
1. Criminal intimidation

2. If threat be to cause death or grievous hurt, Etc.
1. Two Years or Fine or Both

2. Seven Years or Fine or Both
Non-CognizableBailable
Triable By: 1. Any Magistrate

2. Magistrate First Class
Offence is Compoundable By The person intimidated

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख
-

अधिक पढ़ें गए

IPC 324 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 - Voluntarily causing hurt by dangerous weapons or means

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 खतरनाक आयुधों या साधनों द्वारा स्वेच्छया उपहति कारित करना -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध ...

पूरा पढ़ें

IPC 325 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 - Punishment for voluntarily causing grievous hurt

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने के लिए दण्ड -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, जो कोई स्वे...

पूरा पढ़ें

IPC 323 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 - Punishment for voluntarily causing hurt

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 स्वेच्छया उपहति कारित करने के लिए दण्ड --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध है, जो कोई स्वेच्छ...

पूरा पढ़ें

IPC 451 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451 कारावास से दंडनीय अपराध को करने के लिए गृह-अतिचार -- जो कोई कारावास से दंडनीय कोई अपराध करने के लिए गॄह-अतिचा...

पूरा पढ़ें

IPC 354C in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ग - Voyeurism

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ग दृश्यरतिकता [1] -- कोई पुरुष, जो प्राइवेट कार्य में संलग्न स्त्री को उन परिस्थितियों में देखेगा या का चित्...

पूरा पढ़ें