-->

विटामिन क्या है और क्या है इसके फायदे ?

Image: Creative Commons - Photo by Pietro Jeng - Source Pexels

विटामिन क्या है ? Health

Read Time: 4 Min

विटामिन वो पोषक तत्व है, जो हमारे शरीर की कोशिकाओ की सामान्य क्रियाओं व उनके विकास के लिए आवश्यक होते है। इनमे उपस्थित एंटीऑक्सिडेंट शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाते है जिससे हमारा शरीर रोगों के हमलों का सक्षम रूप से सामना कर पाता है। कुछ खाद्य तत्वों में ऐसे पोषक तत्वों की, विशेष रूप से विटामिन सी, ई, और कैरोटीनॉयड में एंटीऑक्सिडेंट की बड़ी मात्रा में उपस्थिति की पुष्टि हुई है जबकि, यह भी माना जाता है, कि अन्य विटामिन जैसे विटामिन के, विटामिन डी, नियासिन, पाइरिडोक्सिन और राइबोफ्लेविन में भी एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा हो सकती है। एंटीऑक्सिडेंट जैसे कि विटामिन सी और ई, कैरोटीन, लाइकोपीन, ल्यूटिन और पाए जाने वाले कई अन्य पदार्थ कैंसर, हृदय रोग, अल्जाइमर रोग इत्यादि जैसे रोगों को रोकने में मदद करने में भूमिका निभा सकते हैं।

हमारा शरीर स्वयं विटामिन का उत्पादन नहीं कर सकता हैं अतः हमें विटामिनों की आपूर्ति,  भोजन या विटामिनों के औषध पूरकों (Supplements) द्वारा करनी पड़ती हैं। हमारा शरीर सुचारु रुप से कार्य करें, इसके लिए हमारे शरीर को 13 (तेरह) प्रकार के अतिआवश्यक विटामिनों की आवश्यकता होती हैं  और इसलिए यह आवश्यक हो जाता हैं कि हम अच्छे स्वस्थ के लिए इन विटामिनों के विभिन्न प्रकार ओर शरीर के लिए उनके प्रभावों की जानकारी रखें।

विटामिनों के प्रकारः विटामिन दो प्रकार के होते हैं, वसा में घुलनशील ( Fat-soluble ) और जल में घुलनशील (Water-soluble ).

1.     वसा में घुलनशील ( Fat-soluble ) :  यह विटामिन वसा में घुल सकते है, जब तक शरीर को इनकी आवश्यकता नहीं होती ये विटामिन यकृत (लीवर) या वसा के ऊतकों में संग्रहित रह सकते हैं। इस श्रेणी में विटामिन ए, डी, इ ओर विटामिन के (K) आते हैं। फैट-साल्यबल विटामिन हड्डीयों की सुदृढ़ता को बनाये रखने से लेकर मांसपेशियों के नियंत्रण तक, शरीर की बहुमुखी क्रियायों में सहयोग करते हैं।

2.     जल में घुलनशील (Water-soluble ) :  यह विटामिन शरीर में संग्रहित (Stored) नहीं होते हैं, इसलिए इनकी शरीर में हर दिन पूर्ति आवश्यक होती हैं। इन विटामिनों की पूर्ति के लिए शरीर प्रतिदिन हम जो खाते हैं, उसमें से आवश्यकता अनुसार विटामिनों को सोख लेता हैं।

विटामिनों के प्रकार और उनके खाद्य स्त्रोत का संक्षिप्त विवरण :
वसा में घुलनशील विटामिनः

1.     विटामिन ए:  यह शकरगन्द, सीताफल, गाजर, खुबानी, पालक इत्यादि में पाया जाता हैं।
2.     विटामिन डीः कोड लीवर आयल, मशरुम, दुग्ध-उत्पात, अण्ड़ों इत्यादि में पाया जाता है।
3.     विटामिन ई : पक्का पालक, बादाम, ब्रोकली, किवि  इत्यादि मे पाया जाता हैं।
4.     विटामिन के : गहरी हरी सब्जीयों, स्प्रिन्ग ओनिय्न, बन्द गोभी, खीरा इत्यादि में पाया जाता हैं।

जल में घुलनशील विटामिनः
विटामिन बी 1 या थायमिन - साबुत अनाज, समृद्ध अनाज से आते हैं, मांस जिगर; नट और बीज इत्यादि।
विटामिन बी 2 या Riboflavin - साबुत अनाज, समृद्ध अनाज, और डेयरी उत्पादों से आता है।
विटामिन बी 3 या नियासिन -  मांस, मछली, मुर्गी , और साबुत अनाज से प्राप्त होता है।
विटामिन बी 5 या Pantothenic एसिड - मांस, अंडा, और साबुत अनाज से प्राप्त होता है।
विटामिन बी 6 या pyridoxine - तिल के बीज, पिस्ता, अखरोट, मछली, मुर्गे, मेवो में पाया जाता है।
विटामिन बी 7 या बायोटिन - फल और मांस में पाया जाता है।
विटामिन B9 या फोलिक एसिड (फोलेट) - पत्तेदार सब्जियों में पाया जाता है।
विटामिन बी 12 - मछली, अंडा, मांस और डेयरी उत्पादों से प्राप्त होता है।
विटामिन सी - खट्टे फल और जूस, संतरे और जैसे पके फल से प्राप्त होता है; लाल, पीले और हरे रंग की मिर्च।

Report Disclaimer Applies

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख

अधिक पढ़ें गए

IPC 354C in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 ग - Voyeurism

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ग दृश्यरतिकता [1] -- कोई पुरुष, जो प्राइवेट कार्य में संलग्न स्त्री को उन परिस्थितियों में देखेगा या का चित्...

पूरा पढ़ें

IPC 354B in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ख - Assault or use of criminal force to woman with intent to disrobe

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354ख विवस्त्र करने के आशय से स्त्री पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग [1] -- कोई पुरुष, जो किसी स्त्री को विवस्त...

पूरा पढ़ें

IPC 354A in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 क - Sexual harassment and punishment for sexual harassment

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354क लैंगिक उत्पीड़न और लैंगिक उत्पीड़न के लिए दण्ड [1] -- 1. निम्न कार्यों --- (i) अवांछनीय एवं सुव्यक्त लैंगि...

पूरा पढ़ें

IPC 354D in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354 घ - Stalking

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 354घ पीछा करना [1] -- 1. कोई पुरुष, जो (i) किसी स्त्री का पीछा करेगा या ऐसी स्त्री द्वारा अनिच्छा के स्पष्ट उ...

पूरा पढ़ें

IPC 325 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 - Punishment for voluntarily causing grievous hurt

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने के लिए दण्ड -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, जो कोई स्वे...

पूरा पढ़ें