Vitamin A - विटामिन ए

Updated By: Help-Line
विटामिन ए :
विटामिन ए एक वसा में घुलने वाला विटामिन है, यह कई खाद्य पदार्थों में स्वाभाविक रूप से पाया जाता हैं। विटामिन ए सामान्य दृष्टि, प्रतिरक्षा प्रणाली, कोशिकाओं के विकास और प्रजनन तंत्र के लिए आवश्यक होता है। दिल, फेफड़े, गुर्दे, और अन्य अंगों के सुचारु रुप से काम करने में भी सहायक होता हैं।
विटामिन ए दो प्रकार का होता हैं, रेटिनोल और बीटा कैरोटीन।
1.      रेटिनॉल (या 'preformed' विटामिन ए) विटामिन ए का शुद्ध रुप है जो मछली के तेल, मीट, जिगर और दुग्ध उत्पाद में पाया जाता है।
2.      बीटा कैरोटीन को साधारणतः प्रो-विटामिन ए के नाम से भी जाना जाता हैं। यह फलों, सब्जीयों में पाया जाता हैं।
विटामिन ए के लाभः
यह सामान्य वृद्धि, कंकाल विकास, प्रजनन, स्तनपान और तंत्रिका तंत्र के रखरखाव के लिए आवश्यक है। यह अच्छी दृष्टि, मजबूत हड्डियों, दांत, त्वचा, बाल और मसूड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। बीटा कैरोटीन के रूप में विटामिन ए एक एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है, बीटा कैरोटीन कुछ तरह के कैंसर का विकास होने से रोक सकता हैं।
विटामिन ए का एक प्रमुख लाभ यह है कि यह अपूर्णता परिलक्षण का निवारण करने में मदद करता हैं। जैसे किः
1.     रात को दृष्टि का कमजोर होना।
2.     आंखों का अति सूखापन ।
3.     त्वचा का सूखा और खुरदरा होना।
4.     संक्रामक बीमारीयों के प्रति संवेदनशील होना।
5.     प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना।

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख
-

अधिक पढ़ें गए

IPC 324 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 - Voluntarily causing hurt by dangerous weapons or means

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 खतरनाक आयुधों या साधनों द्वारा स्वेच्छया उपहति कारित करना -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध ...

पूरा पढ़ें

IPC 325 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 - Punishment for voluntarily causing grievous hurt

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने के लिए दण्ड -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, जो कोई स्वे...

पूरा पढ़ें

IPC 323 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 - Punishment for voluntarily causing hurt

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 स्वेच्छया उपहति कारित करने के लिए दण्ड --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध है, जो कोई स्वेच्छ...

पूरा पढ़ें

IPC 451 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451 कारावास से दंडनीय अपराध को करने के लिए गृह-अतिचार -- जो कोई कारावास से दंडनीय कोई अपराध करने के लिए गॄह-अतिचा...

पूरा पढ़ें

IPC 342 in HIndi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342 - Punishment for wrongful confinement

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342 (Dhara 342) सदोष परिरोध के लिए दण्ड ---   जो कोई किसी व्यक्ति का सदोष परिरोध करेगा, वह दोनों में से किसी भांत...

पूरा पढ़ें