The National Consumer Disputes Redressal Commission (NCDRC)

Updated By: Help-Line Consumer Protection

Related Links:

Consumer Protection act, 1986
Consumer Court Judgements

भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (एनसीडीआरसी), भारत का एक अर्द्धन्यायिक आयोग (Quasi-judicial Commission) हैं, जिसका गठन सन् 1988 में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 के अन्तर गत किया गया था। इस आयोग का मुख्य कार्यालय भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित हैं।  इस आयोग की अध्यक्षता भारत के उच्चतम न्यायालय के वर्तमान या सेवानिवृत्त न्यायाधीश द्वारा की जाती हैं।
अधिकार-क्षेत्रः
उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा 21 के अनुसार आयोग ऐसे मामलों पर विचार करेगा जहां वस्तुओं, सेवाओं या क्षतिपूर्ति के लिए की गई शिकायत का मूल्य एक करोड़ रुपये से अधिक हैं और ऐसे मामलें जो राज्य आयोगों या जिला फोरमों द्वारा दिये गए आदेशों के पुनविचार और संशोधनात्मक क्षेत्राधिकार के आधीन आते हैं।
पुनः विचारः
उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 की धारा 23 के अनुसार एनसीडीआरसी के आदेश से व्यथित किसी भी व्यक्ति को 30 दिनों की अवधि के भीतर भारत की सुप्रीम कोर्ट में इस तरह के आदेश के खिलाफ अपील करने का अधिकार प्राप्त है।
पताः
उपभोक्ता न्याय भवन,
'F' ब्लॉक, जी पीओ कोम्पलेक्स,
आई एन ए, नई दिल्ली - ११० ०२३.
पी बी एक्स संख्या : 011-24608801, 24608802
फेक्स संख्या: 011-24651505, 24658505
ई-मेल: ncdrc@nic.in

कृपया प्रसार करें:

पिछला लेख
अगला लेख
-

अधिक पढ़ें गए

IPC 324 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 324 खतरनाक आयुधों या साधनों द्वारा स्वेच्छया उपहति कारित करना --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबं...

पूरा पढ़ें

IPC 325 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 325 स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने के लिए दण्ड -- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, जो कोई स्वे...

पूरा पढ़ें

IPC 323 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 स्वेच्छया उपहति कारित करने के लिए दण्ड --- उस दशा के सिवाय, जिसके लिए धारा 334 में उपबंध है, जो कोई स्वेच्छ...

पूरा पढ़ें

IPC 451 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 451 कारावास से दंडनीय अपराध को करने के लिए गृह-अतिचार -- जो कोई कारावास से दंडनीय कोई अपराध करने के लिए गॄह-अतिचा...

पूरा पढ़ें

IPC 342 in HIndi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342 (Dhara 342) सदोष परिरोध के लिए दण्ड ---   जो कोई किसी व्यक्ति का सदोष परिरोध करेगा, वह दोनों में से किसी भांत...

पूरा पढ़ें