IPC 304A in Hindi - News - आईपीसी की धारा 304क - समाचार

भारतीय दंड संहिता की धारा 304क (304A) "उपेक्षा द्वारा मृत्यु कारित करना", को 1870 में अधिनियम संख्या 27 द्वारा प्रस्तावित किया गया, इसे धारा 304 के अंतर्गत रखा गया, जोकि गैर-इरादतन हत्या के अपराध को तथा उसके अंतर्गत मिलने वाले दंड को परिभाषित करती है। धारा 304क में उतावलेपन से (Rash) या उपेक्षापूर्ण (Negligent) कार्य से हुई किसी व्यक्ति की मृत्यु के लिए दंड का प्रवधान किया गया है।
इस धारा का प्रयोग प्रायः हर उस धटना या दुर्घटना के साथ होता है जहां पर किसी की लापरवाही या उतावलेपन से किसी व्यक्ति की जान की हानि होती है। धारा 304 क का प्रयोग, चाहे वह सड़क दुर्घटना में हुई मृत्यु हो या सड़क के गटर में गिरने से या सदर बाजार दिल्ली की आग में जलने वाले दादी पोता की मृत्यु हों या सूअर द्वारा बीस दिन के बच्चे पर हमला कर मारने की घटना हो या बिल्डर द्वारा लापरवाही बरतने से हुई मृत्यु हो या डॉक्टर द्वारा लापरवाही बरतने से, इस तरह के अधिकतर मामलों में आईपीसी की धारा 304क का प्रयोग होता है, यह बात अलग है कि मामले की मांग को देखते हुए धारा 304क के साथ दूसरी अन्य धाराएं जोड़ दी जाएं।
धारा 304A के अंतर्गत आने वाले अपराध गैर-समझौतावादी है, इसमें दो वर्ष तक के कारावास और जुर्माने का प्रवधान है और पुलिस को शिकायत मिलने पर पुलिस इसका संज्ञान ले सकती है, जमानती धारा होने के कारण इसमें तुरंत जमानत भी मिल जाती है।

इस धारा से जुड़े कुछ समाचार:

दिल्‍ली: मां की गोद से नवजात को झपट ले गया सुअर। 04 NOV 2017

दिल्ली के भाटी माइन्स इलाके में एक बेहद दर्दनाक घटना हुई है। एक सूअर ने 20 दिन की बच्ची को मां की गोद से उस समय झपट लिया जब माँ बच्ची को दूध पिला रही थी। इस हमले में घायल बच्‍ची को अस्‍पताल ले जाया गया जहां उसने दम तोड़ दिया। परिवार वालों की शिकायत पर दिल्‍ली पुलिस ने सुअर के मालिक के खिलाफ आईपीसी की धारा 289/304A के तहत मामला दर्ज कर लिया। पुलिस अब सुअर मालिक की तलाश कर रही है।

मुंबई की बारिश में जान गंवाने वाले डॉक्टर की मौत के चार आरोपी गिरफ्तार 17 SEP 2017

मुंबई में जनजीवन अस्त-व्यस्त करने वाली बारिश में जान गंवाने वाले डॉ अमरापुरकर की मौत के मामले में दादर पुलिस ने चार लोगों दिनार पवार, नीलेश कदम, राकेश कदम और सिद्धेश बेसलेकर को गिरफ्तार कर, उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 304A के तहत मकदमा दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक इन लोगों ने वह मैनहोल खोला था जिसमें गिरकर डॉ अमरापुरकर की जान गई थी। आरोपियों नीलेश, राकेश और सिद्धेश झुग्गी में रहते हैं जबकि पवार पास ही एक इमारत में रहता है।

कार एक्सीडेंट में हुई थी महिला की मौत, रहाणे के पिता हिरासत में 15 Dec 2016

15 दिसम्बर 2017 को कई समाचार पत्रों में छपे समाचार के अनुसार भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे के पिता को कार दुर्घटना से महिला की मृत्यु होने पर गिरफ्तार कर लिया गया। उन पर आईपीसी की धारा 304A, 337, 338, 279 और 184 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

समझौता होने पर आईपीसी की धारा 304A के तहत करवाही रद्द नहीं की जा सकती 02 जून 2016

02 जून 2016 को पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने आईपीसी की धारा 340A से संबंधित एक निर्णय देते हुए कहा की अगर वादी और आरोपी के बीच समझौते के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 304A के अंतर्गत होने वाली कार्यवाही को रद्द नहीं किया जा सकता है (विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए judgement पढ़ें)
बलात्कार एक घृणित अपराध
विनम्र ' अनुरोध: भविष्य में जारी होने वाली नोटिफिकेशन को अपने ईमेल पर पाने के लिए अपने ईमेल को सब्सक्राइब करें।

Popular Posts