IPC 69 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 69

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 69

जुर्माने के आनुपातिक भाग के दे दिए जाने की दशा में कारावास का पर्यवसान-- यदि जुर्माना देने में व्यतिक्रम होने की दशा के लिए नियत की गई कारावास की अवधि का अवसान होने से पूर्व जुर्माने का ऐसा अनुपात चुका दिया या उद्गॄहीत कर लिया जाए कि देने में व्यतिक्रम होने पर कारावास की जो अवधि भोगी जा चुकी हो, वह जुर्माने के तब तक न चुकाए गए भाग के आनुपातिक से कम न हो तो कारावास पर्यवसित हो जाएगा ।

दृष्टांत:
एक सौ रुपए के जुर्माने और उसके देने में व्यतिक्रम होने की दशा के लिए चार मास के कारावास से दण्डादिष्ट किया गया है। यहाँ यदि कारावास के एक मास के अवसान से पूर्व जुर्माने के पचत्तहर रुपए चुका किए जाएं या उद्गृहित कर लिए जाए तो प्रथम मास का अवसान होते ही उन्मुक्त कर किया जाएगा। यदि पचत्तहर रुपए प्रथम मास के अवसान पर या किसी भी पश्चातवर्ती समय पर जब कि कारावास में है, चुका दिए या उद्गृहित कर दिए जाएं तो तुरंत उन्मुक्त कर दिया जाएगा। यदि कारावास के दो मास के अक़्सान से पूर्व जुर्माने के पचास रुपए चुका दिए जाएं या उद्गृहित कर लिए जाएं, तो दो मास के पुरे होते ही उन्मुक्त कर दिया जाएगा। यदि पचास रुपए उन दो मास के अक़्सान पर या किसी भी पश्चातवर्ती समय पर जब की कारावास में है, चुका दिए जाएं या उद्गृहित कर लिए जाएं, तो तुरंत उन्मुक्त कर दिया जाएगा।

Indian Penal Code Section 69

Termination of imprisonment on payment of proportional part of fine.-- If, before the expiration of the term of imprisonment fixed in default of payment, such a proportion of the fine be paid or levied that the term of imprisonment suffered in default of payment is not less than proportional to the part of the fine still unpaid, the imprisonment shall terminate.

Illustration
A is sentenced to a fine of one hundred rupees and to four months' imprisonment in default of payment. Here, if seventy-five rupees of the fine be paid or levied before the expiration of one month of the imprisonment. A will be discharged as soon as the first month has expired. If seventy-five rupees be paid or levied at the time of the expiration of the first month, or at any later time while A continues in imprisonment. A will be immediately discharged. If fifty rupees of the fine be paid or levied before the expiration of two months of the imprisonment. A will be discharged as soon as the two months are completed. If fifty rupees be paid or levied at the time of the expiration of those two months, or at any later time while A continues in imprisonment, A will be immediately discharged.
बलात्कार एक घृणित अपराध
विनम्र ' अनुरोध: भविष्य में जारी होने वाली नोटिफिकेशन को अपने ईमेल पर पाने के लिए अपने ईमेल को सब्सक्राइब करें।

Popular Posts