IPC 39 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 39

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 39

स्वेच्छया-- कोई व्यक्ति किसी परिणाम को स्वेच्छया कारित करता है, यह तब कहा जाता है, जब वह उसे उन साधनों द्वारा कारित करता है, जिनके द्वारा उसे कारित करना उसका आशय था या उन साधनों द्वारा कारित करता है जिन साधनों को काम में लाते समय वह यह जानता था, या यह विश्वास करने का कारण रखता था कि उनसे उसका कारित होना संभाव्य है ।
दृष्टांत:
. लूट को सुकर बनाने के प्रयोजन से एक बड़े नगर के एक बसे हुए गॄह में रात को आग लगाता है और इस प्रकार एक व्यक्ति की मॄत्यु कारित कर देता है । यहां का आशय भले ही मॄत्यु कारित करने का न रहा हो और वह दुखित भी हो कि उसके कार्य से मॄत्यु कारित हुई है तो भी यदि वह यह जानता था कि संभाव्य है कि वह मॄत्यु कारित कर दे तो उसने स्वेच्छया मॄत्यु कारित की है ।

Indian Penal Code Section 39

"Voluntarily".-- A person is said to cause an effect "voluntarily" when he causes it by means whereby he intended to cause it, or by means which, at the time of employing those means, he knew or had reason to believe to be likely to cause it.

Illustration:

A sets fire, by night, to an inhabited house in a large town, for the purpose of facilitating a robbery and thus causes the death of a person. Here, A may not have intended to cause death; and may even be sorry that death has been caused by his act; yet, if he knew that he was likely to cause death, he has caused death voluntarily.
बलात्कार एक घृणित अपराध
विनम्र ' अनुरोध: भविष्य में जारी होने वाली नोटिफिकेशन को अपने ईमेल पर पाने के लिए अपने ईमेल को सब्सक्राइब करें।

Popular Posts