IPC 229A in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 229क

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 229क

जमानत या बंधपत्र पर छोड़े गए व्यक्ति द्वारा न्यायालय में हाजिर होने में असफलता [1]-- जो कोई, किसी अपराध से आरोपित किए जाने पर और जमानत पर या अपने बंधपत्र पर छोड़ दिए जाने पर, जमानत या बंधपत्र के निबंधनों के अनुसार न्यायालय में पर्याप्त कारणों के बिना (जो साबित करने का भार उस पर होगा) हाजिर होने में असफल रहेगा वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि एक वर्ष तक की हो सकेगी या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा।

स्पष्टीकरण-- इस धारा के अधीन दंड --
(क) -- उस दंड के अतिरिक्त है, जिसके लिए अपराधी उस अपराध के लिए, जिसके लिए उसे आरोपित किया गया है, दोषसिद्धि पर दायी होता ; और

(ख) -- न्यायालय की बन्धपत्र के समपहरण का आदेश करने की शक्ति पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाला नहीं है।

1. 2005 के अधिनियम संख्या 25 की धारा 44 ग, द्वारा अंत: स्थापित दिनांक 23-06-2006 से प्रभावी।
PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
जमानत या बंधपत्र पर छोड़े गए व्यक्ति द्वारा न्यायालय में हाजिर होने में असफलता एक वर्ष का कारावास या जुर्माना या दोनों संज्ञेय या काग्निज़बलगैर-जमानती
विचारणीय : किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा यह अपराध कंपाउंडबल अपराधों की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है

Indian Penal Code Section 229A

Failure by person released on bail or bond to appear in Court [1]-- Whoever, having been charged with an offence and released on bail or on bond without sureties, fails without sufficient cause (the burden of proving which shall lie upon him), to appear in Court in accordance with the terms of the bail or bond, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to one year, or with fine, or with both.

Explanation.-- The punishment under this section is ---

(a) in addition to the punishment to which the offender would be liable on a conviction for the offence with which he has been charged; and

(b) without prejudice to the power of the Court to order forfeiture of the bond.

1. Inserted by Act No.25 of 2005, Sec.44(c), (w.e.f. 23-06-2006)
PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
Failure by person released on bail or bond to appear in CourtImprisonment for One year or Fine or BothCognizableNon-Bailable
Triable By: Any Magistrate Offence is NOT listed under Compoundable Offences


बलात्कार एक घृणित अपराध
विनम्र ' अनुरोध: भविष्य में जारी होने वाली नोटिफिकेशन को अपने ईमेल पर पाने के लिए अपने ईमेल को सब्सक्राइब करें।

Popular Posts