CrPC 190 in Hindi - दण्ड प्रक्रिया संहिता धारा - 190

अध्याय 14- दण्ड प्रक्रिया संहिता धारा - 190 - मजिस्ट्रेटों द्वारा अपराधों का संज्ञान--

(1) इस अध्याय के उपबंधों के अधीन रहते हुए, कोई प्रथम वर्ग मजिस्ट्रेट और उपधारा (2) के अधीन विशेषतया सशक्त किया गया कोई द्वितीय वर्ग मजिस्ट्रेट, किसी भी अपराध का संज्ञान निम्नलिखित दशाओं में कर सकता है :--
(क) उन तथ्यों का, जिनसे ऐसा अपराध बनता है परिवाद प्राप्त होने पर ;
(ख) ऐसे तथ्यों के बारे में पुलिस रिपोर्ट पर ;
(ग) पुलिस अधिकारी से भिन्न किसी व्यक्ति से प्राप्त इस इतिल्ला पर या स्वयं अपनी इस जानकारी पर कि ऐसा अपराध किया गया है।
(2) मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट किसी द्वितीय वर्ग मजिस्ट्रेट को ऐसे अपराधों का, जिनकी जांच या विचारण करना उसकी क्षमता के अंदर है, उपधारा (1) के अधीन संज्ञान करने के लिए सशक्त कर सकता है।
__________

Chapter XIV - CrPC Section 190 - Cognizance of offences by Magistrates

1. Subject to the provisions of this Chapter, any Magistrate of the first class, and any Magistrate of the second class specially empowered in this behalf under Sub-Section (2), may take cognizance of any offence—
a. upon receiving a complaint of facts which constitute such offence;
b. upon a police report of such facts;
c. upon information received from any person other than a police officer, or upon his own knowledge, that such offence has been committed.
2. The Chief Judicial Magistrate may empower any Magistrate of the second class to take cognizance under Sub-Section (1) of such offences as are within his competence to inquire into or try.
____________
बलात्कार एक घृणित अपराध
विनम्र ' अनुरोध: भविष्य में जारी होने वाली नोटिफिकेशन को अपने ईमेल पर पाने के लिए अपने ईमेल को सब्सक्राइब करें।

Popular Posts