Indian Penal Code Section 216A - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 216क - Hindi

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 216क

लुटेरों या डाकुओं को संश्रय देने के लिए शास्ति --जो कोई यह जानते हुए या विश्वास करने का कारण रखते हुए कि कोई व्यक्ति लूट या डकैती हाल ही में करने वाले हैं या हाल ही में लूट या डकैती कर चुके हैं, उनको या उनमें से किसी को, ऐसी लूट या डकैती का किया जाना सुकर बनाने के, या उनको या उनमें से किसी को दंड से प्रतिच्छादित करने के आशय से संश्रय देगा, वह कठिन कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।

स्पष्टीकरण -- इस धारा के प्रयोजनों के लिए यह तत्वहीन है कि लूट या डकैती [भारत] में करनी आशयित है या की जा चुकी है, या [भारत] से बाहर ।

अपवाद -- इस उपबंध का विस्तार ऐसे मामले पर नहीं है, जिसमें संश्रय देना, या छिपाना अपराधी के पति या पत्नी द्वारा हो ।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
लुटेरों या डाकुओं को संश्रय देने के लिए शास्ति।सात वर्ष तक का कठोर कारावास और जुर्माना। संज्ञेय या काग्निज़बल।जमानती
विचारणीय : प्रथम श्रेणी के मेजिस्ट्रेट द्वारा। कम्पाउंडबल अपराध की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है।

Indian Penal Code Section 216A

Penalty for harbouring robbers or dacoits. -- Whoever, knowing or having reason to believe that any persons are about to commit or have recently committed robbery or dacoity, harbours them or any of them, with the intention of facilitating the commission of such robbery or dacoity or of screening them or any of them from punishment, shall be punished with rigorous imprisonment for a term which may extend to seven years, and shall also be liable to fine.

Explanation. -- For the purposes of this section it is immaterial whether the robbery or dacoity is intended to be committed, or has been committed, within or without [India].

Exception. -- This provision does not extend to the case in which the harbour is by the husband or wife of the offender.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
Penalty for harbouring robbers or dacoits.Rigorous Imprisonment may extend to Seven years and Fine. Cognizable.Bailable
Triable By: Magistrate of the First Class.Offence is NOT listed under Compoundable Offences


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts