IPC 216 in Hindi - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 216

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 216

ऐसे अपराधी को संश्रय देना, जो अभिरक्षा से निकल भागा है या जिसको पकड़ने का आदेश दिया जा चुका है-- जब किसी अपराध के लिए दोषसिद्धि या आरोपित व्यक्ति उस अपराध के लिए वैध अभिरक्षा में होते हुए ऐसी अभिरक्षा से निकल भागे,

अथवा जब कभी कोई लोक सेवक ऐसे लोक सेवक की विधिपूर्ण शक्तियों का प्रयोग करते हुए किसी अपराध के लिए किसी व्यक्ति को पकड़ने का आदेश दे, तब जो कोई ऐसे निकल भागने को या पकड़े जाने के आदेश को जानते हुए, उस व्यक्ति को पकड़ा जाना निवारित करने के आशय से उसे संश्रय देगा या छिपाएगा, वह निम्नलिखित प्रकार से दंडित किया जाएगा, अर्थात् :--

यदि अपराध मॄत्यु से दंडनीय हो -- यदि वह अपराध, जिसके लिए वह व्यक्ति अभिरक्षा में था या पकड़े जाने के लिए आदेशित है, मॄत्यु से दंडनीय हो, तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा, और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ;

यदि आजीवन कारावास या दस वर्ष तक के कारावास से दंडनीय हो -- यदि वह अपराध [आजीवन कारावास] से या दस वर्ष के कारावास से दंडनीय हो, तो वह जुर्माने सहित या रहित दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा ;

तथा यदि वह अपराध ऐसे कारावास से दंडनीय हो, जो एक वर्ष तक का, न कि दस वर्ष तक का हो सकता है, तो वह उस अपराध के लिए उपबंधित भांति के कारावास से, जिसकी अवधि उस अपराध के लिए उपबंधित कारावास की दीर्घतम अवधि की एक चौथाई तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से दंडित किया जाएगा ।

[इस धारा में अपराध के अंतर्गत कोई भी ऐसा कार्य या लोप भी आता है, जिसका कोई व्यक्ति [भारत] से बाहर दोषी होना अभिकथित हो, जो यदि वह [भारत] में उसका दोषी होता, तो अपराधी के रूप में दंडनीय होता और जिसके लिए, वह प्रत्यर्पण से संबंधित किसी विधि के अधीन या अन्यथा [भारत] में पकड़े जाने या अभिरक्षा में निरुद्ध किए जाने के दायित्व के अधीन हो, और हर ऐसा कार्य या लोप इस धारा के प्रयोजनों के लिए ऐसे दंडनीय समझा जाएगा, मानो अभियुक्त व्यक्ति [भारत] में उसका दोषी हुआ था ।]

अपवाद -- इस उपबंध का विस्तार ऐसे मामले पर नहीं है, जिसमें संश्रय देना या छिपाना पकड़े जाने वाले व्यक्ति के पति या पत्नी द्वारा हो ।
PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
1. >ऐसे अपराधी को संश्रय देना, जो अभिरक्षा से निकल भागा है या जिसको पकड़ने का आदेश दिया जा चुका है, यदि अपराध मॄत्यु से दंडनीय हो।

2. यदि आजीवन कारावास या दस वर्ष तक के कारावास से दंडनीय हो ।

३. यदि वह अपराध ऐसे कारावास से दंडनीय हो, जो एक वर्ष तक का हो।
1. सात वर्ष तक का कारावास और जुर्माना।

2. तीन वर्ष तक का कारावास और जुर्माना।

3. अपराध की सजा का एक चौथाई या जुर्माना या दोनों।
संज्ञेय या काग्निज़बल।जमानती
विचारणीय : प्रथम श्रेणी के मेजिस्ट्रेट द्वारा। कम्पाउंडबल अपराध की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है।

Indian Penal Code Section 216

Harbouring offender who has escaped from custody or whose apprehension has been ordered. -- Whenever any person convicted of or charged with an offence, being in lawful custody for that offence, escapes from such custody,

or whenever a public servant, in the exercise of the lawful powers of such public servant, orders a certain person to be apprehended for an offence, whoever, knowing of such escape or order for apprehension, harbours or conceals that person with the intention of preventing him from being apprehended, shall be punished in the manner following, that is to say,

if a capital offence; -- if the offence for which the person was in custody or is ordered to be apprehended is punishable with death, he shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, and shall also be liable to fine;

if punishable with imprisonment for life, or with imprisonment. --
if the offence is punishable with [imprisonment for life] or imprisonment for ten years, he shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to three years, with or without fine;

and if the offence is punishable with imprisonment which may extend to one year and not to ten years, he shall be punished with imprisonment of the description provided for the offence for a term which may extend to one-fourth part of the longest term of the imprisonment provided for such offence or with fine, or with both.

["Offence" in this section includes also any act or omission of which a person is alleged to have been guilty out of [India], which, if he had been guilty of it in [India], would have been punishable as an offence, and for which he is, under any law relating to extradition, 6*or otherwise liable to be apprehended or detained in custody in [India], and every such act or omission shall, for the purposes of this section, be deemed to be punishable as if the accused person had been guilty of it in [India].]

Exception. -- The provision does not extend to the case in which the harbour or concealment is by the husband or wife of the person to be apprehended.
PUNISHMENT & CLASSIFICATION OF OFFENCE
1. Harbouring an offender who has escaped from custody, or whose apprehension has been ordered, If the offence be capital.

2. If punishable with imprisonment for life or with imprisonment for 10 Years.

3. If punishable with imprisonment for 1 Year and not for 10 Years.
1. Imprisonment may extend to Seven years, and fine.

2. Imprisonment may extend to Three years and fine.

3. One-Fourth of Offence or Fine or Both.
Cognizable.Bailable
Triable By: Magistrate of the First Class.Offence is NOT listed under Compoundable Offences

Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts