Indian Penal Code Section 464 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 464 - Hindi - Making a false document

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 464

मिथ्या दस्तावेज रचना -- उस व्यक्ति के बारे में यह कहा जाता है कि वह व्यक्ति मिथ्या दस्तावेज या मिथ्या इलैक्ट्रानिक अभिलेख रचता है,--

पहला-- जो बेईमानी से या कपटपूर्वक इस आशय से--

(क) किसी दस्तावेज को या दस्तावेज के भाग को रचित, हस्ताक्षरित, मुद्रांकित या निष्पादित करता है ;

(ख) किसी इलैक्ट्रानिक अभिलेख को या किसी इलैक्ट्रानिक अभिलेख के भाग को रचित या पारेषित करता है ;

(ग) किसी इलैक्ट्रानिक अभिलेख पर कोई अंकीय चिह्नक लगाता है ;

(घ) किसी दस्तावेज के निष्पादन का या ऐसे व्यक्ति या अंकीय चिह्नक की अधिप्रमाणिकता का द्योतन करने वाला कोई चिह्न लगाता है,
कि यह विश्वास किया जाए कि ऐसा दस्तावेज या दस्तावेज के भाग, इलैक्ट्रानिक अभिलेख या अंकीय चिह्नक की रचना, हस्ताक्षरण, मुद्रांकन, निष्पादन, पारेषण या लगाना ऐसे व्यक्ति द्वारा या ऐसे व्यक्ति के प्राधिकार द्वारा किया गया था, जिसके द्वारा या जिसके प्राधिकार द्वारा उसकी रचना, हस्ताक्षरण, मुद्रांकन या निष्पादन, लगाए जाने या पारेषित न होने की बात वह जानता है ; या

दूसरा -- जो किसी दस्तावेज या इलैक्ट्रानिक अभिलेख के किसी तात्विक भाग में परिवर्तन, उसके द्वारा या ऐसे किसी अन्य व्यक्ति द्वारा, चाहे ऐसा व्यक्ति, ऐसे परिवर्तन के समय जीवित हो या नहीं, उस दस्तावेज या इलैक्ट्रानिक अभिलेख के रचित या निष्पादित किए जाने या अंकीय चिह्न लगाए जाने के पश्चात््, उसे रद्द करके या अन्यथा, विधिपूर्वक प्राधिकार के बिना, बेईमानी से या कपटपूर्वक करता है ; अथवा

तीसरा -- जो किसी व्यक्ति द्वारा, यह जानते हुए कि ऐसा व्यक्ति किसी दस्तावेज या इलैक्ट्रानिक अभिलेख की विषयवस्तु को या परिवर्तन के रूप को, विकॄतचित्त या मत्तता की हालत होने के कारण जान नहीं सकता था या उस प्रवंचना के कारण, जो उससे की गई है, जानता नहीं है, उस दस्तावेज या इलैक्ट्रानिक अभिलेख को बेईमानी से या कपटपूर्वक हस्ताक्षरित, मुद्रांकित, निष्पादित या परिवर्तित किया जाना या किसी इलैक्ट्रानिक अभिलेख पर अपने अंकीय चिह्नक लगाया जाना कारित करता है ।

दृष्टांत:

(क) क के पास य द्वारा ख पर लिखा हुआ 10,000 रुपए का एक प्रत्यय पत्र है । ख से कपट करने के लिए क 10,000 में एक शून्य बढ़ा देता है और उस राशि को 1,00,000 रुपए इस आशय से बना देता है कि ख यह विश्वास कर ले कि य ने वह पत्र ऐसा ही लिखा था । क ने कूटरचना की है ।

(ख) क इस आशय से कि वह य की सम्पदा ख को बेच दे और उसके द्वारा ख से क्रय धन अभिप्राप्त कर ले, य के प्राधिकार के बिना य की मुद्रा एक ऐसी दस्तावेज पर लगाता है, जो कि य की ओर से क की सम्पदा का हस्तान्तरपत्र होना तात्पर्यित है । क ने कूटरचना की है ।

(ग) एक बैंकार पर लिखे हुए और वाहक को देय चेक को क उठा लेता है । चेक ख द्वारा हस्ताक्षरित है, किन्तु उस चेक में कोई राशि अंकित नहीं है । क 10,000 रुपए की राशि अंकित करके चेक को कपटपूर्वक भर लेता है । क कूटरचना करता है ।

(घ) क अपने अभिकर्ता ख के पास एक बैंकार पर लिखा हुआ, क द्वारा हस्ताक्षरित चेक, देय धनराशि अंकित किए बिना छोड़ देता है । ख को क इस बात के लिए प्राधिकॄत कर देता है कि वह कुछ संदाय करने के लिए चेक में ऐसी धनराशि, जो दस हजार रुपए से अधिक न हो अंकित करके चेक भर ले । ख कपटपूर्वक चेक में बीस हजार रुपए अंकित करके उसे भर लेता है । ख कूटरचना करता है ।

(ङ) क, ख के प्राधिकार के बिना ख के नाम में अपने ऊपर एक विनिमय पत्र इस आशय से लिखता है कि वह एक बैंकार से असली विनिमयपत्र की भांति बट्टा देकर उसे भुना ले, और उस विनिमयपत्र को उसकी परिपक्वता पर ले ले, यहां क इस आशय से उस विनिमयपत्र को लिखता है कि प्रवंचना करके बैंकार को यह अनुमान करा दे कि उसे ख की प्रतिभूति प्राप्त है, और इसलिए वह उस विनिमयपत्र को बट्टा लेकर भुना दे । क कूटरचना का दोषी है ।

(च) य की विल में ये शब्द अन्तर्विष्ट हैं कि मैं निदेश देता हूं कि मेंरी समस्त शेष सम्पत्ति क, ख और ग में बराबर बांट दी जाए । क बेईमानी से ख का नाम इस आशय से खुरच डालता है कि यह विश्वास कर लिया जाए कि समस्त सम्पत्ति उसके स्वयं के लिए और ग के लिए ही छोड़ी गई थी । क ने कूटरचना की है ।

(छ) क एक सरकारी वचनपत्र को पॄष्ठांकित करता है और उस पर शब्द य को या उसके आदेशानुसार दे दो लिखकर और पॄष्ठांकन पर हस्ताक्षर करके उसे य को या उसके आदेशानुसार देय कर देता है । ख बेईमानी से य को या उसके आदेशानुसार दे दो इन शब्दों को छीलकर मिटा डालता है, और इस प्रकार उस विशेष पॄष्ठांकन को एक निरंक पॄष्ठांकन में परिवर्तित कर देता है । ख कूटरचना करता है ।

(ज) क एक सम्पदा य को बेच देता है और उसका हस्तांतर-पत्र लिख देता है । उसके पश्चात् क, य को कपट करके सम्पदा से वंचित करने के लिए उसी सम्पदा को एक हस्तान्तर-पत्र जिस पर य के हस्तान्तर-पत्र की तारीख से छह मास पूर्व की तारीख पड़ी हुई है, ख  के नाम इस आशय से निष्पादित कर देता है कि यह विश्वास कर लिया जाए कि उसने अपनी सम्पदा य को हस्तांतरित करने से पूर्व ख को हस्तांतरित कर दी थी।  क ने कूटरचना की है।

(झ)    य अपनी विल क से लिखवाता है।  क  साशय एक ऐसे वसीयतदार का नाम लिख देता है, जो कि  उस वसीयतदार से भिन्न है,  जिसका नाम य ने कहा है, और य को यह व्यपदिष्ट करके कि उसने विल उसके अनुदेशों के अनुसार ही तैयार की है, य  को विल पर हस्ताक्षर करने के लिए उत्प्रेरित करता है।  क ने कूटरचना की है।

(ञ)    क एक पत्र लिखता है और ख के प्राधिकार के बिना, इस आशय से  कि उस पत्र के द्वारा य से और अन्य व्यक्तियों से भिक्षा अभिप्राप्त करे, ख के नाम के हस्ताक्षर यह प्रमाणित करते हुए कर देता है कि क अच्छे शील का व्यक्ति है और अनवेक्षित दुर्भाग्य के कारण दीन अवस्था में है।  यहां क, ने य को सम्पति, अलग करने के लिए उत्प्रेरित  करने को मिथ्या दस्तावेज रची है, इसलिए क ने कूटरचना की है।

(ट)    ख के प्राधिकार के बिना क इस आशय से कि उसके द्वारा य के अधीन नौकरी अभिप्राप्त करे, क के शील को प्रमाणित करते हुए एक पत्र  लिखता है, और उसे ख के नाम से हस्ताक्षरित करता है।  क ने कूटरचना की है क्योंकि उसका आशय कूटरचित प्रमाणपत्र द्वारा य को प्रवंचित करने का और ऐसा करके य को सेवा की अभिव्यक्त या विवक्षित  संविदा में प्रविष्ट होने के लिए उत्प्रेरित करने का था।

स्पष्टीकरण 1 -- किसी व्यक्ति  स्वयं  अपने नाम का हस्ताक्षर करना कूटरचना की कोटि में आ सकेगा।

दृष्टांत :

(क)    क एक विनिमयपत्र पर अपने हस्ताक्षर इस आशय से करता है कि यह विशवास कर लिया जाए कि वह विनिमयपत्र उसी नाम के किसी अन्य व्यक्ति द्वारा लिखा गया था।  क ने कूटरचना की है।

(ख)     क एक कागज के टुकड़े पर शब्द  "प्रतिगृहीत किया" लिखता है और उस पर य के नाम के हस्ताक्षर इसलिए करता है कि ख बाद में इस कागज पर एक विनिमयपत्र, जो ख ने य के ऊपर किया है, लिखे और उस विनिमयपत्र का इस प्रकार परक्रामण करे, मानो वह य  के द्वारा प्रतिगृहीत कर लिया गया था।  क कूटरचना का दोषी है, तथा यदि ख इस तथ्य को  जानते हुए क के आशय के अनुसरण में, उस कागज पर विनिमयपत्र लिख देता है, तो ख भी कूटरचना का दोषी है।

(ग)    क अपने नाम के किसी अन्य व्यक्ति के आदेशानुसार देय विनिमयपत्र पड़ा पाता है।  क उसे उठा लाता है और विशवास कराने के आशय से स्वयं अपने नाम पृष्ठांकित करता है कि इस विनिमयपत्र पर पृष्ठांकन उसी व्यक्ति द्वारा लिखा गया था जिसके आदेशानुसार वह देय है।  वहां, क ने कूटरचना की है।

(घ)     क, ख के विरुद्ध एक डिक्री के निष्पादन में बेचीं गई सम्पदा को खरीदता है।  ख सम्पदा के अभिगृहित किए जाने के पश्चात य के साथ दुस्सान्धि करके क को कपटवंचित करने और यह विशवास कराने के आशय से कि वह पटटा अभिग्रहण से पूर्व निष्पादित किया गया था, नाममात्र के भाटक पर और एक लम्बी कालवधि के लिए य के नाम उस सम्पदा का  पट्टा कर देता है और पट्टे पर अभिग्रहण से छह मास पूर्व की तारिख डाल देता है। ख यधपि पट्टे का निष्पादन स्वयं अपने नाम से करता है, तथापि उस पर पूर्व की तारीख डालकर वह कूटरचना करता है।

(ङ)    क एक व्यापारी अपने दिवाले का पूर्वानुमान करके अपनी चीजवस्तु ख  के पास क के फायदे के लिए और अपने लेनदारों को कपटवंचित करने के आशय से रख देता है ; और प्राप्त मूल्य के बदले में, ख को एक धनराशि देने के लिए अपने को आबद्ध करते हुए, एक वचनपत्र उस संव्यवहार को सच्चाई की रंगत देने के लिए लिख देता है, और इस आशय से कि यह विश्वास कर लिया जाए कि वह वचनपत्र उसने उस समय से पूर्व ही लिखा था जब उसका दिवाला निकलने वाला था, उस पर पहले की तारीख डाल देता है।  क ने परिभाषा के प्रथम शीर्षक के अधीन कूटरचना की है।

स्पष्टीकरण 2 -- कोई मिथ्या दस्तावेज किसी कल्पित व्यक्ति के नाम से इस आशय से रचना कि यह विश्वास कर लिया जाए कि वह दस्तावेज एक वास्तविक व्यक्ति द्वारा रची गई थी, या किसी मृत व्यक्ति के नाम से इस आशय कि यह विशवास कर लिया जाए कि वह दस्तावेज उस व्यक्ति द्वारा उसके जीवन काल में रची गई थी, कूटरचना की कोटि में आ सकेगा।

स्पष्टीकरण 3 -- इस धारा  प्रयोजनों के लिए, "अंकीय चिह्नक लगाने " पद का वही अर्थ होगा जो उसका सुचना प्रोधोगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 2 की उपधारा (1)  के खंड  (घ) में है।

दृष्टांत :
क एक कल्पित व्यक्ति के नाम कोई विनिमयपत्र लिखता है, और उसका परक्रामण करने के आशय से उस विनिमयपत्र को ऐसे कल्पित व्यक्ति के नाम से कपटपूर्वक प्रतिगृहीत कर लेता है।  क कूटरचना करता है।

Indian Penal Code Section 464

Making a false document. -- A person is said to make a false document -

First.--
Who dishonestly or fraudulently makes, signs, seals or executes a document or part of a document, or makes any mark denoting the execution of a document, with the intention of causing it to be believed that such document or part of a document was made, signed, sealed or executed by or by the authority of a person by whom or by whose authority he knows that it was not made, signed, sealed or executed, or at a time at which he knows that it was not made, signed, sealed or executed; or

Secondly.-- Who, without lawful authority, dishonestly or fraudulently, by cancellation or otherwise, alters a document in any material part thereof, after it has been made or executed either by himself or by any other person, whether such person be living or dead at the time of such alteration; or

Thirdly.-- Who dishonestly or fraudulently causes any person to sign, seal, execute or alter a document, knowing that such person by reason of unsoundness of mind or intoxication cannot, or that by reason of deception practised upon him, he does not know the contents of the document or the nature of the alteration.

Illustrations:

(a) A has a letter of credit upon B for rupees 10,000, written by Z. A, in order to defraud B, adds cipher to the 10,000, and makes the sum 1,00,000 intending that it may be believed by B that Z so wrote the letter. A has committed forgery.

(b) A without Z's authority, affixes Z's seal to a document purporting to be a conveyance of an estate from Z to A, with the intention of selling the estate to B and thereby of obtaining from B the purchase-money. A has committed forgery.

(c) A picks up a cheque on a banker signed by B, payable to bearer, but without any sum having been inserted in the cheque. A fraudulently fills up the cheque by inserting the sum of ten thousand rupees. A commits forgery.

(d) A leaves with B, his agent, a cheque on a banker, signed by A, without inserting the sum payable and authorizes B to fill up the cheque by inserting a sum not exceeding ten thousand rupees for the purpose of making certain payments. B fraudulently fills up the cheque by inserting the sum of twenty thousand rupees. B commits forgery.

(e) A draws a bill of exchange on himself in the name of B without B's authority, intending to discount it as a genuine bill with a banker and intending to take up the bill on its maturity. Here, as A
draws the bill with intent to deceive the banker by leading him to suppose that he had the security of B, and thereby to discount the bill, A is guilty of forgery.

(f) Z's will contains these words-"I direct that all my remaining property be equally divided between A, B and C." A dishonestly scratches out B's name, intending that it may be believed that the whole was left to himself and C. A has committed forgery.

(g) A endorses a Government promissory note and makes it payable to Z< for his order by writing on the bill the words "Pay to Z or his order" and signing the endorsement. B dishonestly erases the words "Pay to Z or his order", and thereby converts the special endorsement into a blank endorsement. B commits forgery. (h) A sells and conveys an estate to Z. A afterwards, in order to defraud Z of his estate, executes a conveyance of the same estate to B, dated six months earlier than the date of the conveyance to Z, intending it to be believed that he had conveyed the estate to B before he conveyed it to Z. A has committed forgery.

(i) Z dictates his will to A. A intentionally writes down a different legatee named by Z, and by representing to Z that he has prepared the will according to his instructions, induces Z to sign the will. A has committed forgery.

(j) A writes a letter and signs it with B's name without B's authority, certifying that A is a man of good character and in distressed circumstances from unforeseen misfortune, intending by means of such letter to obtain alms from Z and other persons. Here, as A made a false document in order to induce Z to part with property, A has committed forgery.

(k) A without B's authority writes a letter and signs it in B's name certifying to A's character, intending thereby to obtain employment under Z. A has committed forgery inasmuch as he intended to deceive Z by the forged certificate, and thereby to induce Z to enter into an express or implied contract for service.

Explanation I. -- A man's signature of his own name may amount to forgery.

Illustrations:

(a) A signs his own name to a bill of exchange, intending that it may be believed that the bill was drawn by another person of the same name. A has committed forgery.

(b) A writes the word "accepted" on a piece of paper and signs it with Z's name, in order that B may afterwards write on the paper a bill of exchange drawn by B upon Z, and negotiate the bills as though it had been accepted by Z. A is guilty of forgery; and if B, knowing the fact, draws the bill upon the paper pursuant to A's intention, B is also guilty of forgery.

(c) A picks up a bill of exchange payable to the order of a different person of the same name. A endorses the bill in his own name, intending to cause it to be believed that it was endorsed by the person to whose order it was payable; here A has committed forgery.

(d) A purchases an estate sold under execution of a decree against B. B, after the seizure of the estate, in collusion with Z, executes a lease of the estate to Z at a nominal rent and for a long period and dates the lease six months prior to the seizure, with intent to defraud A, and to cause it to be believed that the lease was granted before the seizure. B, though he executes the lease in his own name, commits forgery by antedating it.

(e) A, a trader, in anticipation of insolvency, lodges effects with B for A's benefit, and with intent to defraud his creditors; and in order to give a colour to the transaction, writes a promissory note binding himself to pay to B a sum for value received, and antedates the note, intending that it may be believed to have been made before A was on the point of insolvency. A has committed forgery under the first head of the definition.

Explanation 2.-- The making of a false document in the name of a fictitious person, intending it to be believed that the document was made by real person, or in the name of a deceased person, intending it to be believed that the document was made by the person in his lifetime, may amount to forgery.

Illustration:
A draws a bill of exchange upon a fictitious person, and fraudulently accepts the bill in the name of such fictitious person with intent to negotiate it. A commits forgery.


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts