Indian Penal Code Section 364A - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 364क - Hindi

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 364क

फिरौती, आदि के लिए व्यपहरण --- जो कोई इसलिए किसी व्यक्ति का व्यपहरण या अपहरण करेगा या ऐसे व्यपहरण या अपहरण के पश्चात ऐसे व्यक्ति को निरोध में रखेगा और ऐसे व्यक्ति की मृत्यु या उसकी उपहति कारित करने की धमकी देगा या अपने आचरण से ऐसी युक्तियुक्त आशंका पैदा करेगा की ऐसे व्यक्ति की मृत्यु हो सकती है या उसको उपहति की जा सकती है या ऐसे व्यक्ति को उपहति या उसकी मृत्यु कारित करेगा जिससे कि सरकार या [किसी विदेशी राज्य या अंतर्राष्ट्रीय अंतर-सरकारी संगठन या किसी अन्य व्यक्ति ] को किसी कार्य  को करने या करने से प्रविरत रहने के लिए या फिरौती देने के लिए विवश किया जाए, वह मृत्यु या आजीवन कारावास से दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
फिरौती, आदि के लिए व्यपहरणमृत्यु या आजीवन कारावास और जुर्माना संज्ञेय या काग्निज़बलगैर-जमानती

विचारणीय : सेशन कोर्ट द्वारा
कंपाउंडबल अपराध के सूचि में सूचीबद्ध नहीं है।

Indian Penal Code Section 364A

Kidnapping for ransom, etc.-- Whoever kidnaps or abducts any person or keeps a person in detention after such kidnapping or abduction, and threatens to cause death or hurt to such person, or by his conduct gives rise to a reasonable appreension that such person may be put to death or hurt, or causes hurt or death to such person in order to compel the Government or any foreign State or international inter-governmental organisation or any other person to do or abstain from doing any act or to pay a ransom, shall be punishable with death or imprisonment for life, and shall also be liable to fine.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
Kidnapping for ransom, etc.Death or imprisonment for life and fine.CognizableNon-Bailable
Triable By:Court of Session Offence is NOT listed under Compoundable Offences


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts