Indian Penal Code Section 358 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 358 - Hindi - Assault or criminal force on grave provocation

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 358

गम्भीर प्रकोपन मिलने पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग ----    जो कोई किसी व्यक्ति पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग उस व्यक्ति द्वारा दिए गए गंभीर और अचानक प्रकोपन पर करेगा, वह सादा कारावास से, जिसकी अवधि एक मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने  से, जो दो सौ रुपए तक का हो सकेगा या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।

स्पष्टीकरण ---   अंतिम धारा उसी स्पष्टीकरण के अध्यधीन है जिसके अध्यधीन की धारा 352 है।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
गम्भीर प्रकोपन मिलने पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोगएक मास तक का सादा कारावास या जुर्माना 200 रुपए या दोनोंअसंज्ञेय या नॉन-काग्निज़बलजमानती
विचारणीय : किसी भी मेजिस्ट्रेट द्वारा यह अपराध कंपाउंडबल है, उस व्यक्ति द्वारा जिस पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग हुआ है।

Indian Penal Code Section 358

Assault or criminal force on grave provocation.-- Whoever assaults or uses criminal force to any person on grave and sudden provocation given by that person, shall be punished with simple imprisonment for a term which may extend to one month, or with fine which may extend to two hundred rupees, or with both.

Explanation.-The last section is subject to the same explanation as section 352.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
Assault or criminal force on grave provocation.Simple imprisonment: may extend to one month or fine 200 rupee or bothNon-CognizableBailable
Triable By: Any Magistrate Compoundable by The person assaulted or to whom the force was used.


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts