Indian Penal Code Section 339 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 339 - Hindi - Wrongful restraint

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 339

सदोष अवरोध ----   जो कोई किसी व्यक्ति को स्वेच्छया ऐसे बाधा डालता है कि उस व्यक्ति को उस दिशा में, जिसमें उस व्यक्ति को जाने का अधिकार है, जाने से निवारित कर दे, वह उस व्यक्ति का सदोष अवरोध करता है, यह कहा जाता है।

अपवाद -- भूमि के या जल के ऐसे प्राइवेट मार्ग में बाधा डालना जिसके सम्बन्ध में किसी व्यक्ति को सदभावपूर्वक विश्वास है कि वहां बाधा डालने का उसे विधिपूर्ण अधिकार है, इस धारा के अर्थ के अंतर्गत अपराध नहीं है।

दृष्टान्त :
क एक मार्ग में, जिससे होकर जाने का य का अधिकार है, सदभावपूर्वक यह विशवास न रखते हुए कि उसको मार्ग रोकने का अधिकार प्राप्त  है, बाधा डालता है।  य  जाने से तदद्वारा रोक दिया जाता है।  क, य का सदोष अवरोध करता है।

Indian Penal Code Section 339

Wrongful restraint.-- Whoever voluntarily obstructs any person so as to prevent that person from proceeding in any direction in which that person has a right to proceed, is said wrongfully to restrain that person.

Exception.- The obstruction of a private way over land or water which a person in good faith believes himself to have a lawful right to obstruct, is not an offence within the meaning of this section.

Illustration
A obstructs a path along which Z has a right to pass. A not believing in good faith that he has a right to stop the path. Z is thereby prevented from passing. A wrongfully restrains Z.


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts