Indian Penal Code Section 442 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 442 - Hindi - House-trespass

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 442

गृह-अतिचार -- जो कोई किसी निर्माण, तम्बू या जलयान में, जो मानव-निवास के रूप में उपयोग में आता है, या किसी निर्माण में, जो उपासना-स्थान के रूप में, या किसी सम्पति की अभिरक्षा के स्थान के रूप में उपयोग में आता है, प्रवेश करके या उसमें बना रहकर, आपराधिक अतिचार करता है, वह :गृह-अतिचार" करता है, यह कहा जाता है।
स्पष्टीकरण -- आपराधिक अतिचार करने वाले व्यक्ति के शरीर के किसी भाग का प्रवेश गृह-अतिचार गठित करने के लिए पर्याप्त प्रवेश है।

Indian Penal Code Section 442

House-trespass.-- Whoever commits criminal trespass by entering into or remaining in any building, tent or vessel used as a human dwelling or any building used as a place for worship, or as a place for the custody of property, is said to commit "house-trespass". Explanation.-- The introduction of any part of the criminal trespasser's body is entering sufficient to constitute house-trespass.






Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts