Indian Penal Code Section 316 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 316 - Hindi

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 316

ऐसे कार्य द्वारा जो आपराधिक मानव वध की कोटि में आता है, किसी सजीव अजात शिशु की मृत्यु कारित करना ---- जो कोई ऐसा कोई कार्य ऐसी परिस्थितियों में करेगा की यदि वह तदद्वारा मृत्यु कारित कर देता, तो वह आपराधिक मानव वध का दोषी होता और ऐसे कार्य द्वारा किसी सजीव अजात शिशु को मृत्यु कारित करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा , और जुर्माने से भी दंडनीय होगा।
दृष्टांत :
, यह सम्भाव्य जानते हुए कि वह गर्भवती स्त्री की मृत्यु कारित कर दे, ऐसा कार्य करता है, जो यदि उससे उस स्त्री की मृत्यु कारित हो जाती, तो वह आपराधिक मानव वध की कोटि में आता। उस स्त्री को क्षति होती है, किन्तु उसकी मृत्यु नहीं होती, किन्तु तदद्वारा उस अजात सजीव शिशु की मृत्यु हो जाती है, जो उसके गर्भ में है। इस धारा में परिभाषित अपराध का दोषी है।

Indian Penal Code Section 316

Causing death of quick unborn child by act amounting to culpable homicide.-- Whoever does any act under such circumstances, that if he thereby caused death he would be guilty of culpable homicide, and does by such act cause the death of a quick unborn child, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

Illustration:
A, knowing that he is likely to cause the death of a pregnant woman, does an act which, if it caused the death of the woman, would amount to culpable homicide. The woman is injured, but does not die;
but the death of an unborn quick child with which she is pregnant is thereby caused. A is guilty of the offence defined in this section.


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts