Indian Penal Code Section 298 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 298 - Hindi - Uttering words, etc., with deliberate intent to wound religious feelings

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 298

धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के विमर्शित आशय से शब्द उच्चारित करना आदि ---- जो कोई किसी व्यक्ति की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के विमर्शित आशय से उसकी श्रवणगोचस्ता में कोई शब्द उच्चारित करेगा या कोई ध्वनि करेगा या उसकी दृष्टिगोचरता में कोई अंगविक्षेप करेगा, या कोई वस्तु रखेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि एक वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के विमर्शित आशय से शब्द उच्चारित करना आदिएक वर्ष का कारावास या जुर्माना या दोनोंअसंज्ञेय या नॉन-काग्निज़बलगैर-जमानती
विचारणीय : किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा यह अपराध कंपाउंडबल है

Indian Penal Code Section 298

Uttering words, etc., with deliberate intent to wound religious feelings.-- Whoever, with the deliberate intention of wounding the religious feelings of any person, utters any word or makes any sound in the hearing of that person or makes any gesture in the sight of that person or places any object in the sight of that person, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to one year, or with fine, or with both.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
Uttering words, etc., with deliberate intent to wound religious feelings.Imprisonment for One years or Fine or Both Non-CognizableNon-Bailable
Triable By: Any Magistrate Offence is Compoundable


Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts