Indian Penal Code Section 283 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 283 - Hindi - Danger or obstruction in public way or line of navigation

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 283

लोक मार्ग या नौपरिवहन पथ में संकट या बाधा -- जो कोई किसी कार्य को करके या अपने कब्जे में की, या अपने भारसाधन की अधीन किसी सम्पति की व्यवस्था करने का लोप करने द्वारा, किसी लोकमार्ग या नौपरिवहन की लोक पथ में किसी व्यक्ति को संकट, बाधा या क्षति कारित करेगा वह जुर्माने से, जो दो सौ रुपए तक का हो सकेगा, दण्डित किया जाएगा।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
लोक मार्ग या नौपरिवहन पथ में संकट या बाधा जुर्मानासंज्ञेय या काग्निज़बलजमानती
विचारणीय : किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा यह अपराध कंपाउंडबल अपराधों की सूचि में सूचीबद्ध नहीं है

Indian Penal Code Section 283

Danger or obstruction in public way or line of navigation.-- Whoever, by doing any act, or by omitting to take order with any property in his possession or under his charge, causes danger, obstruction or injury to any person in any public way or public line of navigation, shall be punished, with fine which may extend to two hundred rupees.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
Danger or obstruction in public way or line of navigation.FineCognizableBailable
Triable By: Any Magistrate Offence is NOT listed under Compoundable Offences



Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts