Indian Penal Code Section 200 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 200 - Hindi - Using as true such declaration knowing it to be flase

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 200

ऐसी घोषणा का मिथ्या होना जानते हुए सच्ची के रूप में काम में लाना -- जो कोई किसी ऐसी घोषणा को, यह जानते हुए की वह किसी तात्विक बात के संबंध में मिथ्या है, भ्रष्टतापूर्वक सच्ची के रूप में उपयोग में लाएगा, या उपयोग में लाने का प्रयत्न करेगा, वह उसी प्रकार से दण्डित किया जायेगा, मानो मिथ्या साक्ष्य दिया हो ।

स्पष्टीकरण--   कोई घोषणा, जो केवल किसी अपररूपिता के आधार पर अग्राह्य है, धरा 199  और धरा 200 के अर्थ के अंतर्गत घोषणा है।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
ऐसी घोषणा का मिथ्या होना जानते हुए सच्ची के रूप में काम में लाना दण्ड: मिथ्या साक्ष्य देने पर जो दण्ड लागू होता है। असंज्ञेय या नॉन-काग्निज़बलजमानती

विचारणीय : मिथ्या साक्ष्य अपराध की धारा के अनुसार
कंपाउंडबल अपराध की सुचि में सूचीबद्ध नहीं है।

Indian Penal Code Section 200

Using as true such declaration knowing it to be flase.-- Whoever corruptly uses or attempts to use as true any such declaration, knowing the same to be false in any material point, shall be punished in the same manner as if he gave false evidence.

Explanation.-- A declaration which is inadmissible merely upon the ground of some informality, is a declaration within the meaning of sections 199 and 200.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
Using as true such declaration knowing it to be flase.Punishment: As for False EvidenceNon-CognizableBailable
Triable As: for False Evidence Offence is NOT listed under Compoundable Offences



Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts