Indian Penal Code Section 199 - भारतीय दण्ड संहिता की धारा 199

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 199

ऐसी घोषणा में, जो साक्ष्य के रूप में विधि द्वारा ली जा सके, किया गया मिथ्या कथन --जो कोई अपने द्वारा की गई या हस्ताक्षरित किसी घोषणा में, जिसकी किसी तथ्य के साक्ष्य के रूप में लेने के लिए कोई न्यायालय, या कोई लोक सेवक या अन्य व्यक्ति विधि द्वारा आबद्ध या प्राधिकृत हो कोई ऐसा कथन करेगा, जो किसी ऐसी बात के संबंध में, जो उस उदेश्य के लिए तात्विक हो जिसके लिए वह घोषणा की जाए या उपयोग में लायी जाए, मिथ्या है और जिसके मिथ्या होने का उसे ज्ञान या विशवास है, या जिसके सत्य होने का उसे विशवास नहीं है, वह उसी प्रकार से दण्डित किया जाएगा, मानो उसने मिथ्या साक्ष्य दिया हो ।

CLASSIFICATION OF OFFENCE
ऐसी घोषणा में, जो साक्ष्य के रूप में विधि द्वारा ली जा सके, किया गया मिथ्या कथन दण्ड: मिथ्या साक्ष्य देने पर जो दण्ड लागू होता है। असंज्ञेय या नॉन-काग्निज़बलजमानती
विचारणीय : मिथ्या साक्ष्य अपराध की धारा के अनुसार कंपाउंडबल अपराध की सुचि में सूचीबद्ध नहीं है।

Indian Penal Code Section 199

False statement made in declaration which is by law receivable as evidence.-- Whoever, in any declaration made or subscribed by him, which declaration any Court of Justice, or any public servant or other person, is bound or authorized by law to receive as evidence of any fact, makes any statement which is false, and which he either knows or believes to be false or does not believe to be true, touching any point material to the object for which the declaration is made or used, shall be punished in the same manner as if he gave false evidence.

CLASSIFICATION OF OFFENCE
False statement made in declaration which is by law receivable as evidence.Punishment: As for False EvidenceNon-CognizableBailable
Triable As: for False Evidence Offence is NOT listed under Compoundable Offences



Get All The Latest Updates Delivered Straight Into Your Inbox For Free!

Powered by FeedBurner

Popular Posts